You are currently viewing यह देश 36 हजार करोड़ की लागत से दुनिया की सबसे  ऊंची लकड़ी की इमारत बनाने जा रहा है |

यह देश 36 हजार करोड़ की लागत से दुनिया की सबसे ऊंची लकड़ी की इमारत बनाने जा रहा है |

  • Post category:News
  • Post comments:0 Comments

जापान मे लकड़ी की सबसे ऊंची इमारत बनाने की तैयारी हो रही है

हर देश कुछ ना कुछ नया करता रहता है। जिससे उसका नाम पूरी दुनिया में हो सके। इसी बीच जापान दुनिया की सबसे ऊंची इमारत बनाने जा रहा है। अब आप यह कहोगे कि इसमें खास क्या है क्योंकि दुनिया में बहुत से देशों में बड़ी इमारतें हैं तो हम आपको बता दें कि इसमे कुछ खास यह है कि यह पुरी इमारत लकड़ी की होगी।
The tallest building in Japan is going to be built
BBC की रिपोर्ट के अनुसार जापान की एक कंपनी के 2041 मे 320 वीं वर्षगांठ पुरी हो रही है वह इस खुशी के मौके पर जापान मे लकड़ी की इमारत बना रही हैं इस पुरी इमारत बनने मे सिर्फ 10 % ही स्टील और 90% लकड़ी का प्रयोग किया जायेगा। इस इमारत को बनाने का मकसद ग्लोबल वॉर्मिंग और खराब पर्यावरण को सही करने का एक अच्छा उपाय भी माना गया है। जापान देश अपनी पर्यावरण को कितनी मोहब्बत करता है इस बारे में हमे आपको बताने की जरूरत नहीं है। आप सभी जानते हैं जापान में बहुत अधिक मात्रा में वनस्पति पाई जाती है। वह देश अब अपने पुराने दिनों को फिर से दोहराना चाहता है और अपने घरों और बड़ी इमारतों को लकड़ी की सहारे बनाने की तैयारी कर रहा है जिससे पर्यावरण को नुकसान कम पहुंच सके। इस प्रोजेक्ट को ‘W350’ नाम दिया गया है।
The tallest building in Japan is going to be built
जापान देश में भूकंप आना कोई बड़ी बात नहीं है इसीलिए इस इमारत की बनावट कुछ इस तरह की होगी कि वह बड़े से बड़े भूकंप के झटके को झेल सके। 70 फ्लोर ऊंची इमारत में  लगभग 8000 कमरे, होटल और स्कूल की व्यवस्था होगी। हर कमरे मे पेड़ पौधे का इस्तेमाल किया जायेगा। जापान मे बहुत अधिक मात्रा मे वनस्पति पायी जाती है जिससे पर्यावरण भी सही रहता है और इस गगनचुंबी इमारत को बनाने के लिये 6.5 मिलियन क्यूबिक फीट से अधिक लकड़ी की आवश्यकता होगी जो जापान में आसानी से मिल सकती है |
The tallest building in Japan is going to be built
लकड़ी की इमारत बनाने मे लगभग 600 बिलियन येन (क़रीब 36 हज़ार करोड़ रुपये) की लागत आएगी जो आमतौर पर बनने वाली इमारत से दुगना है यह टावर ट्यूब के आकार का होगा ताकि तेज हवा व भूकंप से कोई नुकसान ना पहुँचें। इस इमारत को बनने में लगभग 2041 तक का समय लग सकता है।

Leave a Reply